राजा राम मोहन राय जीवनी 2022 | Raja Ram Mohan Roy Biography 2022

हमारे देश में बहुत सारे विद्यवान और समाज सुधारक हुए है जिन्होने हमारे समाज को अन्धकार से उजाले की ओर हमारे समाज को लेकर गये है इसी में एक नाम राजा राम मोहन राय का भी है जिन्होने हमारे समाज में फैली बुराई और कुनीतियों का बहिस्कार किया,

इन्होने हिन्दु समाज में फेैली बुराईया जैसे सती प्रथा, बाल विवाह जैसे कु रीवाजों को बन्द करने पर विशेष योगदान दिया, इन्होने महिलाओं की शिक्षा को लेकर विशेष ध्यान दिया, इन्होने ने ही ब्रहम समाज की स्थापना करके नव यूव भारत की नीव रखी।

राजा राम मोहन राय प्रारम्भिक जीवन (Raja Ram Mohan Roy Early Life)

राजा राम मोहन राय का जन्म 23 मई 1772 में ब्राहमण परिवार में हुआ था इनके पिता रामांकात राय चार भाषाओं के विद्ववान थे तथा तारिणी देवी ग्रीक भाषा की ज्ञानी और धार्मिक विचारों वाली महिला थी। राजा राम मोहन राय बचपन से ही बेहद तीव्र बुधी के थे,

इनका मन बैराग्य और साधुओं के बीच काफी लगता था और वो खुद भी साधु बनना चाहते है लेकिन माता का अत्यधिक विरोध के कारण ऐसा नही कर पायें

साक्षी तंवर उम्र | पति | लम्बाई | जीवनी 2022

राजा राम मोहन राय शिक्षा (Raja Ram Mohan Roy Education)

राजा राम मोहन राय की शुरुवाती शिक्षा गाव के स्कूल से की,इन्होने अपनी शुरुवाती जीवन की पढाई बगाली भाषा में की, जिसके बाद राजा राम मोहन राय पटना चले गयें और मरदसे में दाखिला लिया जहा पर इन्होने फारसी और अरबी भाषा सिखी ,

फिर बनारस की यात्रा की जहा पर इन्होने वेदा,उपनिषदों, गीता का गहन अध्ययन किया, इन्होने अपने 18 वर्ष तक की उम्र में हिन्दी, बगाली, फारसी, अरबी, ग्रीक भाषों में प्ररांगत हो गये थे

राजा राम मोहन राय करियर (Raja Ram Mohan Roy Career)

राजा राम मोहन राय ने अपनी शुरुवात में मुनिम के रुप में ईस्ट इण्डिया कम्पनी के लिए काम किया जिसके बाद इन्होने मुर्शिदाबाद अपीलीय न्यायालय के रजिस्ट्रार धामस वुडरोफ के लिए 3 साल काम की ।

जिसके बाद इन्होने क्लेक्टर जान डिग्बी के लिए काम किया अग्रेज सरकार इनकी काम से बेहद प्रभावित थे। 1830 में करीब राजा राम मोहन राय ने अकबर द्वितीय की की तरफ से युनाईटड किगंडम की यात्रा पर जाने का मौका मिला,

जहा पर अकबर द्वितीय को दिये जा रहे वजीफे की रकम बढाई की मांग लेकर राजा राम मोहन राय गये था और यह मांग स्वीकार कर लिया गया, जिससे खुश होकर मुगल शासक अकबर द्वितीय ने उनको राजा की उपाधि प्रधान की।

समाज सुधार के लिए किया गया कार्य

राजा राम मोहन राय समाज सुधार के अथक प्रयास किये इनके दिये तर्क और सूक्ष- बूक्ष के कारण इन्होने समाज में फैली बुराईयों जैसे सती प्रथा, बाल विवाह, जाति बेदभाव का कडा विरोध किया, 4 दिसम्बर 1829 में वेस्ट बगंल के गर्वनर लार्ड विलियम के साथ मिलकर सती प्रथा पर प्रतिबन्ध लागा दिया । इन्होने हिन्दु समाज में फैली बुराईयों को दुर करने के लिए 1828 में इन्होने ब्रहम समाज की स्थापना की,

महिलाओं के शिक्षा पर सुधार

राजा राम मोहन राय शिक्षा का सबसे बडा हथियार मानते थे और महिलाओं की शिक्षा पर विशेष जोर दिया था, उनका मानना था कि शिक्षत महिला ही समाज को आगे ले जा सकती है।

इन्होने ब्रिटिश अधिकारी डेविड हरे के साथ मिलकर 1817 में कलकत्ता में कई हिन्दु कालेज की स्थापना करवाई जिसमें वेदांत कालेज (1824), ऐग्लो हिन्दु कालेज (1822), स्काटिश चर्च कालेज (1830) की स्थापना की ।

राजा राम मोहन राय की मृत्यू

27 सितम्बर 1833 मेनिन्जाटिक (रीढ की हडडी) के कारण ब्रिटेन में उनकी मृत्यु हो गई थी, उनकी क्रब को ब्रिस्टल शहर के स्टेपलटन में दफनाया गया था और ब्रिटिश सरकार ने कुछ समय पहले इनके नाम पर सडक नाम रखा है।

साहित्य और किताबें

बगंली व्याकरण(1826)
हिन्दु धर्म की रक्षा (1820)
यूनिवर्सल रिवीजन(1829)
गौडीय व्याकरण (1833)
ईशापनिषद (1816)
कठोरनिषद(1817)
भारतीय दर्शन का इतिहास (1829)

Other Information About Raja Ram Mohan Roy

  • 1803 से 1814 तक इन्होने दिवान के रुप में ईस्ट इण्डिया के लिए काम किया
  • नबम्बर 1930 में सती प्रथा को बन्द करा दिया जिस कारण इनके खिलाफ नफरत फैल गई जिसकंे चलते इनको इग्लैड जाना पडा
  • मुगल स्रमाट अकबर द्वितीय द्वारा इनको राजा की उपाधि दी गई।

QNA

राजा राममोहन राय की मृत्यु कैसे हुई

27 सितम्बर 1833 मेनिन्जाटिक (रीढ की हडडी) के कारण ब्रिटेन में उनकी मृत्यु हो गई थी,

राजा राममोहन राय क्यों प्रसिद्ध है?

राजा राम मोहन राय हिन्दु समाज में फेैली बुराईया जैसे सती प्रथा, बाल विवाह जैसे कु रीवाजों को बन्द करने पर विशेष योगदान दिया, इन्होने महिलाओं की शिक्षा को लेकर विशेष ध्यान दिया, इन्होने ने ही ब्रहम समाज की स्थापना करके नव यूव भारत की नीव रखी।

राजा राम मोहन राय का जन्म कब हुआ?

राजा राम मोहन राय का जन्म 23 मई 1772 में ब्राहमण परिवार में हुआ था

राजा राममोहन राय की मृत्यु के बाद ब्रह्म समाज का नेतृत्व किसने किया

Read More

शालिनी तलवार (हनी सिंह वाइफ) बायोग्राफी इन हिंदी 2022

अरमान देयोल बायोग्राफी इन हिन्दी 2022

प्रभाष नेटवर्थ,मासिक आय, घर, कार

अहान शेट्टी उम्र,लम्बाई,गर्लफ्रेन्ड,पिता,जीवनी 2022

Leave a Comment